संबंध बनाते समय ज़रूर रखें इन बातों का ध्यान अन्यथा पड़ सकता है महंगा…

0

अक्सर ये देखा गया है की मर्द सेक्स करते समय उत्तेजित हो जाते हैं और वो अपने पार्टनर से कोई सलाह नहीं लेते | पहले तो हमें यह पता करना चाहिए की हम जिसके साथ सेक्स करने जा रहे हैं वह भी तैयार है की नहीं अगर वो साथ नहीं दे तो आप सेक्स का पूर्ण मज़ा नहीं ले सकते मानसिक रूप से दोनों को तैयार रहना चाहिए |

पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से बचना चाहिए। माहवारी के समय योनि और उसका मुंह काफी संवेदनशील होता है तथा ऎसी अवस्था में सेक्स करने से पुरूष्ा का लिंग स्त्री की योनि में प्रवेश कर योनि के मुंह पर आघात करता है जिससे योनि के मुंह पर जख्म हो सकता है। इस घाव को “सर्वाइकल इरोजन” कहते हैं। इससे इंफेक्शन हो सकता है।

इंफेक्शन होने पर इलाज न करने की स्थिति में कैंसर तक होने की संभावना हो सकती है, लेकिन यदि दोनों पार्टनर सहमत हों और हाइजीन का खयाल रखते हुए सावधानी बरती जाए तो पीरियड्स के दौरान भी सेक्स किया जा सकता है।
हेल्दी सेक्स के बारे मे सही जानकारी होना बहुत जरूरी है। शादी से पहले इस तरह के संबंधों में उतनी परिपक्वता नहीं रहती है। साथ ही इस बात की कोई गारंटी भी नहीं रहती कि आप गर्भवती नहीं हो सकती|

कई लोगों के मन में वियाग्रा को लेकर गलत धारणाएं हैं। लिंग में इरेक्शन (उत्थान) होना, परन्तु आर्गेज्म से पहले शिथिल हो जाने पर ही वियाग्रा प्रभावशाली ढंग से काम करती है अर्थात सेक्स के दौरान लिंग के शिथिल पड जाने की समस्या से ग्रस्त व्यक्ति को ही वियाग्रा का इस्तेमाल करना चाहिए। शिशन की कठोरता और उत्थान को ज्यादा समय तक बनाए रखना ही वियाग्रा का काम है।

महिला अगर साथ दे मज़ा ही कुछ और है | अगर आप इन बातों पर धयान देंगे तो आप पूरी आनंद ले सकते हैं|

Share.

Leave A Reply